Connect with us

IND Editorial

रानी कमलापत – गिन्नौरगढ से हबीबगंज तक

Published

on

Share Post:

(वरिष्ठ पत्रकार जयराम शुक्ल द्वारा)

मैं अभी हाल ही रातापानी अभयारण्य में तफरीह करते हुए देलावाड़ी रेंज के दुर्गम जंगल में गिन्नौरगढ का वह किला देखकर आया जहाँ से गोंड़ रानी कमलापत का शासन चलता था। किला जीर्णतम स्थिति में है वहाँ तक पहुंचना फिलहाल जोखिम भरा है।

उपलब्ध जानकारी के अनुसार यह किला 800 से 1000 वर्ष पुराना परमारकालीन है..। परमारों के बाद यहाँ गौंड़ राजाओं का कब्जा हुआ। यानी कि उधर गोड़वाना, गढ़ाकोटा के राजा गोंड़ थे तो इधर भोपाल का इलाका भी उन्हीं के बिरादरों के कब्जे में रहा बाद में मुगल शासकों ने धोखा देकर इसे कब्जा लिया था।

Advertisement

 

गिन्नौरगढ को यदि संरक्षित किया जाता तो संभव है कि इसकी प्रसिद्धि भी मांडू की भाँति होती। भोपाल से 45 किमी दूर स्थित इस किले की दस किलोमीटर की परिधि में 4 तालाब और 24 बाबडियाँ हैं। इन बाबड़ियों में से एक को देखने का अवसर मिला। गाइड ने बताया कि भूतल में इसके चार तल्ले और हैं तथा यहाँ से एक सुरंग किले तक जाती है।

लोग जितना रानी दुर्गावती के बारे में जानते हैं फिलहाल उतना कमलापत के बारे में नहीं जानते..।

Advertisement

 

हबीबगंज को रानी कमलापत रेल्वे स्टेशन का नाम दिए जाने के बाद यह जिग्यासा का विषय है कि ये रानी कौन थीं..? भोपाल ताल के ऊपर बने कमला पार्क के जरिए रानी कमलापत को जो नहीं जान पाए थे वे अब उनके नाम से बने विश्वस्तरीय रेल्वे स्टेशन के जरिये जानेंगे।

गौरवशाली व्यक्तित्वों को पुनर्प्रतिष्ठित करने का जो अभियान प्रारंभ हुआ है वह जारी रहना चाहिए। जिस तरह इलाहाबाद, मुगलसराय और अब हबीबगंज को नई पहचान मिली है वैसे ही बिहार के बख्तियारपुर को नया नाम मिलना चाहिए। बख्तियार खिलजी वही राक्षस है जिसने नालंदा विश्वविद्यालय को जलाकर राख में मिलाया था..। सिलसिला जारी रहे..

Advertisement

 

Share Post:
Continue Reading
Advertisement
Address : IND24, Plot No. 35, Indira Press Complex,
MP Nagar, Zone – 1, Bhopal (MP) 462011

Copyright © 2021 Ind 24 News Channel.