Connect with us

Chhattisgarh

छत्तीसगढ़ में सड़ा 112 करोड़ का धान, बीजेपी का दावा कीमत 5 हजार करोड़ से ज्यादा

Published

on

Share Post:
  • बारिश में भीगकर सड़ा धान
  • 112 करोड़ बताई जा रही सड़े धान की कीमत
  •  बीजेपी का वार सरकार अपनी गलती स्वीकार करे

 

रायपुर। प्रदेश में इस साल सहकारी समितियों के जरिए 2147 उपार्जन केंद्रो में न्यूनतम समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी की गई थी। लेकिन धान के उठाव कार्य में देरी और रखरखाव में लापरवाही की वजह से उपार्जन केंद्रो में रखे धान बारिश में भीग गए और सड़ गए है। सड़े हुए धान की कीमत करीब 112 करोड़ रुपए बताई जा रही है। वहीं इस मामले में बीजेपी के पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा 112 करोड़ नहीं बल्कि 5 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा का धान सड़ गया है और बर्बाद हो गया है। इसके लिए जिम्मेदार ये सरकार है और सरकार को अपनी गलती स्वीकार करनी चाहिए।

बृजमोहन का बयान

बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि इस सरकार में कोई व्यवस्था नाम की चीज नहीं है। इस सरकार में मैनेजमेंट जैसी कोई चीज नहीं है। यह सरकार सिर्फ पेपरों में छपना चाह रही है बाकी कहीं पर कुछ काम नहीं हो रहा है। जनता के पैसों की बर्बादी हो रही है। बता दे छत्तीसगढ़ में इसके पहले भी धान भीगने और सड़ने के कई ऐसे मामले सामने आए हैं। लेकिन बावजूद उसके पर्याप्त व्यवस्था नहीं होने के कारण ऐसी स्थिति बार-बार उत्पन्न होती है।

Advertisement

 

Share Post:
Advertisement
Advertisement
Address : IND24, Plot No. 35, Indira Press Complex,
MP Nagar, Zone – 1, Bhopal (MP) 462011

Copyright © 2021 Ind 24 News Channel.