Connect with us

Spiritual

चाणक्य की कुछ बातें जो संतान को योग्य बनाने के लिए माता पिता को रखनी चाहिए याद

Published

on

Share Post:
  • चाणक्य की नीतीयां
  • चाणक्य की गिनती श्रेष्ठ विद्वानों में होती है
  • बच्चें गीली मिट्टी के जैसे होते है

 

चाणक्य की गिनती श्रेष्ठ विद्वानों में होती है। चाणक्य ने तक्षशिला विश्वविद्यालय में शिक्षा ग्रहण की और वहीं पर विधार्थियों को शिक्षा भी प्रदान की। चाणक्य नीती के अनुसार पर माता पिता का सपना होता है। कि उनकी संतान योग्य और आज्ञाकारी बनें। चाणक्य की नीती कहती है। जिस व्यक्ति की संतान माता पिता की आज्ञा मानने वाली होती है। उनके लिए धरती ही स्वर्ग है। चाणक्य की कुछ बातें जो संतान को योग्य बनाने के लिए माता पिता को याद रखनी चाहिए ।

 

घर का माहौल

Advertisement

चाणक्य की नीती कहती है कि घर का माहौल बच्चों को सबसे अधिक प्रभावित करता है। घर का वातावरण जितना अच्छा होगा संतान की प्रगति भी उतनी अच्छी होगी । किसी भी घर में अगर तनाव की स्थिती रहती है वहां संतान पर इसका बहुत बुरा प्रभाव देखने को मिलता है। इसलिए माता पिता को ये कोशिश करते रहना चाहिए कि घर का माहौल दूषित और खराब नही होना चाहिए।

 

रखें अच्छा आचरण

Advertisement

बच्चें गीली मिट्टी के जैसे होते है। उनके उपर हर चीज का प्रभाव बहुत जल्दी होता है। घर संतान की पहली पाठशाला होती है। इसलिए माता पिता की जिम्मेदारी ज्यादा बढ़ जाती है। माता पिता को अपना आचरण ठीक रखना चाहिए। उन्हें आपस में ऐसा कुछ नही करना चाहिए जो संतान के मस्तिष्क पर और उसके मन पर बुरा असर पड़े। बच्चों से हमेशा प्यार से बात करनी चाहिए। अगर हम इन बातों का ध्यान रखें तो संतान पर इसका सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

 

बच्चें को प्रेरित करें

Advertisement

चाणक्य नीती कहती है। कि माता पिता को हमेशा संतान को अच्छे कार्यों के लिए प्रेरित करते रहना चाहिए। संतान को महापुरुषों के बारे में बताते रहना चाहिए। संतान की योग्यता को पहचानने के बाद उसे निखारने के लिए माता पिता को उन्हें प्रेरित करते रहना चाहिए।

 

Advertisement
Share Post:
Advertisement
Advertisement
Address : IND24, Plot No. 35, Indira Press Complex,
MP Nagar, Zone – 1, Bhopal (MP) 462011

Copyright © 2021 Ind 24 News Channel.