Connect with us

Business

PSU Banks में स्वतंत्र निदेशकों की भर्ती की प्रक्रिया हुई शुरू

Published

on

  • सरकार ने निदेशकों की भर्ती की प्रक्रिया की शुरू
  • निदेशकों के 100 रिक्त पदों को भरने की प्रक्रिया हुई शुरू
  • निदेशकों में से एक तिहाई स्वतंत्र निदेशक होने चाहिए

 

सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों और वित्तीय संस्थानों में स्वतंत्र निदेशकों के करीब 100 रिक्त पदों को भरने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। नियामकीय जरूरत को पूरा करने के उद्देश्य से सरकार ने यह कदम उठाया है। कंपनी कानून, 2013 के तहत प्रत्येक सूचीबद्ध कंपनी के कुल निदेशकों में से एक तिहाई स्वतंत्र निदेशक होने चाहिए।

वित्तीय संस्थानों में स्वतंत्र निदेशकों की संख्या बताई गई कम

मिली जानकारी के अनुसार कई सूचीबद्ध सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों तथा कुछ वित्तीय संस्थानों में स्वतंत्र निदेशकों की संख्या तय की गई संख्या से भी कम है। यह ना केवल कंपनी कानून का उल्लंघन है, बल्कि भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) के सूचीबद्धता नियमों का भी उल्लंघन है। उदाहरण के लिए इंडियन ओवरसीज बैंक (आइओबी), इंडियन बैंक तथा यूको बैंक स्वतंत्र निदेशक नियमों को पूरा नहीं कर रहे हैं। भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआइ) तथा बैंक आफ बड़ौदा को छोड़कर अन्य सरकारी बैंकों में चेयरमैन का पद रिक्त है।

2020 में स्वतंत्र निदेशकों की संख्या पिछले साल से भी कम

बैंकों के कर्मचारियों तथा अधिकारियों का प्रतिनिधित्व करने वाले कर्मचारी निदेशक और अधिकारी निदेशक के पद भी तकरीबन सात साल से रिक्त हैं। एक अध्ययन के अनुसार, निफ्टी 500 में 2019 और 2020 में 72 सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम थे। निफ्टी 500 के सार्वजनिक उपक्रमों में 2020 में स्वतंत्र निदेशकों की संख्या पिछले साल से 133 कम थी। इसमें कुल 12 सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक, चार सार्वजनिक क्षेत्र की साधारण बीमा कंपनियां तथा एक जीवन बीमा कंपनी है।

Advertisement

सार्वजनिक क्षेत्र के वित्तीय संस्थान आइएफसीआइ, आइआइएफसीएल, ईसीजीसी लिमिटेड और एक्जिम बैंक हैं। अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ (एआइबीईए) ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को लिखे पत्र में कहा है कि 11 राष्ट्रीयकृत बैंकों में निदेशकों के 52 फीसदी पद अभी खाली हैं।

Share Post:
Advertisement

Copyright © 2021 Ind 24 News Channel. Website Design & Developed By Shreeji Infotek