Connect with us

National

तो इन कारणों से क्रैस हुआ था बिपिन रावत का हेलिकॉप्टर

Published

on

Share Post:

ट्राइ सेवा जांच टीम द्वारा प्रस्तुत प्रारंभिक निष्कर्षों के अनुसार, 8 दिसंबर को आईएएफ हेलिकॉप्टर दुर्घटना जिसमें चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत और 13 अन्य मारे गए थे। यह हादसा मौसम में अप्रत्याशित बदलाव के कारण पायलट का ध्यान भटकने से हुआ था।

भारतीय वायु सेना (IAF) के एक बयान में शुक्रवार को कहा गया कि Mi-17 V5 दुर्घटना की जांच अदालत ने हेलिकॉप्टर में यांत्रिक विफलता, तोड़फोड़ या लापरवाही होने के अंदेशे को खारिज कर दिया है। IAF ने कहा “दुर्घटना घाटी में मौसम की स्थिति में अप्रत्याशित परिवर्तन और हेलिकॉप्टर के अचानक बादलों में प्रवेश होने के कारण हुई।

एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह की अध्यक्षता में हुई जांच

भारतीय वायुसेना ने कहा कि जांच दल ने दुर्घटना के संभावित कारणों का पता लगाने के लिए सभी उपलब्ध गवाहों से पूछताछ के अलावा उड़ान डेटा रिकॉर्डर और कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर का गहन जांच किया। IAF ने कहा, “अपने (प्रारंभिक) निष्कर्षों के आधार पर, कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी ने कुछ सिफारिशें की हैं जिनकी समीक्षा की जा रही है।”

Advertisement

तमिलनाडु में कुन्नूर के पास दुर्घटना में मारे गए 14 लोगों में जनरल रावत, उनकी पत्नी मधुलिका, उनके रक्षा सलाहकार ब्रिगेडियर एलएस लिडर, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के स्टाफ ऑफिसर लेफ्टिनेंट कर्नल हरजिंदर सिंह और पायलट ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह शामिल थे। सरकार ने अभी तक एक नए सीडीएस की नियुक्ति नहीं की है। हादसे की कोर्ट ऑफ इंक्वायरी की अध्यक्षता एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह कर रहे थे।

यह भी पढ़े- कानपुर मे लगी आग , हुआ भारी नुकसान

Advertisement
Share Post:
Advertisement
Advertisement
Address : IND24, Plot No. 35, Indira Press Complex,
MP Nagar, Zone – 1, Bhopal (MP) 462011

Copyright © 2021 Ind 24 News Channel.