Connect with us

Madhya Pradesh

30 वर्ष पहले से अपने हक के लिए आंदोलन कर रहे मजदूर, इसके बाबजूद भी नहीं मिल रहा पैसा

Published

on

Share Post:
  • 30 वर्ष पहले से अपने हक की लड़ाई लड़ रहे मजदूर
  • हुकुमचंद मिल के मजदूरों को अब तक नहीं मिला हक
  • 22 मजदूरों की मौत हुई और 70 ने की आत्महत्या

 

इंदौर। 30 वर्ष पहले से अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हुकुमचंद मिल के मजदूरों को अब तक हक नहीं मिल सका है, बहुत बार उन्होंने आंदोलन से लेकर कई तरह के जतन किए हैं लेकिन इसका कोई लाभ उन्हें नहीं मिल सका है। आज भी वह आंदोलन करते हुए ही नजर आ रहे हैं। इसी कड़ी में दर्जनों मिल कर्मचारियों ने फिर एक बार कालका माता मंदिर में पूजा अर्चना की और मुख्यमंत्री सहित तत्कालीन सरकार और जिला प्रशासन के अधिकारियों से गुहार लगाने की कोशिश की है।

किसी योजना का लाभ नहीं मिला मजदूरों को

कर्मचारी संघ के अध्यक्ष का कहना है कि अभी तक 22 मजदूरों की मौत हो चुकी है, तो वहीं 70 से अधिक मजदूरों ने आत्महत्या कर ली है। इसके बावजूद भी सरकार के कानों में जूं नहीं रेंग रही है, सालों से लड़ रहे मजदूर अपने हक के लिए कई तरह की ठोकरें खा चुके हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी वर्गों के लिए कई तरह की योजना चलाई हैं और वे दोनों हाथों से रुपयों का भी वितरण कर रहे हैं, लेकिन 30 वर्षों से हम मजदूरों के लिए किसी भी तरह की कोई कोई योजना का लाभ नहीं दिया गया।

Advertisement

कई नेता इस पूरे मामले से बचते हुए आए नजर

वहीं पिछले दिनों जब इस मिल की जमीन को बेचने की बात आई, तब यह मिल की जमीन पंद्रह सौ करोड रुपए की बताई गई और नगर निगम ने शपथ पत्र पेश कर इस बेशकीमती जमीन को बेचने से रोक दिया। मजदूरों का पैसा इस कीमती जमीन का एक छोटा सा टुकड़ा बेचकर आसानी से दिया जा सकता है। उसके बावजूद भी इस तरह की कोई पहल नहीं की जा रही है, जबकि इंदौर में एक से बढ़कर कई कद्दावर नेता है, जो कि इस समस्या का तुरंत निदान कर सकते हैं लेकिन अन्य कई नेता इस पूरे मामले में बचते हुए नजर आ रहे हैं और मिल मजदूर आज भी आंदोलन ही कर रहा है।

Advertisement
Share Post:
Address : IND24, Plot No. 35, Indira Press Complex,
MP Nagar, Zone – 1, Bhopal (MP) 462011

Copyright © 2021 Ind 24 News Channel.